Hindi

जाने धर्मेंद्र ने क्यों कहा- पता होता तो सनी देओल को नहीं लड़ने देता गुरदासपुर से चुनाव?

गुरदासपुर में बेटे सनी देओल के लिए लोकसभा चुनाव कैम्पेन करने पहुंचे एक्टर धर्मेंद्र का एक बयान सियासी गलियारे में दिलचस्पी से सुना जा रहा है. दरअसल, धर्मेंद्र के बड़े बेटे सनी देओल बीजेपी के टिकट पर पंजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. उनके खिलाफ कांग्रेस के उम्मीदवार और बलराम जाखड़ के बेटे सुनील जाखड़ उम्मीदवार हैं. धर्मेंद्र ने कहा, “अगर पता होता कि गुरदासपुर में हमारे दोस्त बलराम जाखड़ के बेटे सुनील जाखड़ सनी के सामने चुनाव मैदान में हैं तो शायद सनी को यहां से चुनाव नहीं लड़वाता. हमने तो खुद उनके लिए चुनाव में कैम्पेन किया है.”

https://www.instagram.com/p/Bwx-c3fpISu/

 

न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक़ धर्मेंद्र ने कहा, “सुनील जाखड़ तो मेरे बेटे की तरह है. उनके प‍िता बलराम जाखड़ संग मेरा बहुत गहरा र‍िश्ता रहा है. वो एक अनुभवी पॉल‍िट‍िश‍ियन हैं, हम लोग तो फिल्म इंडस्ट्री से आते हैं.” धर्मेंद्र ने कहा, “हम नेता नहीं, सेवक बनकर लोगों की सेवा करने आए हैं. हम यहां भाषण देने नहीं, बल्कि लोगों के दर्द को समझने आए हैं, ताकि इसे दूर किया जा सके.”

 

धर्मेंद्र खुद बीजेपी के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ चुके हैं. एक्टर ने कहा , “मैंने बीकानेर में पांच साल वह काम करके दिखाए जो पहले 50 साल में नहीं हुए थे. बीकानेर से चुनाव लड़ने से पहले भाजपा ने पटियाला से चुनाव लड़ने की पेशकश की थी, लेकिन मैंने देखा कि उस सीट पर कैप्टन अमरिंदर सिंह की पत्नी परनीत कौर चुनाव लड़ रही हैं. वह उनका बहुत सम्मान करते हैं और परनीत कौर उनकी बहन की तरह है. इसलिए मैंने वहां से चुनाव लड़ने के लिए मना कर दिया.”

 

धर्मेंद्र ने कहा, “बेटे सनी देओल को मिल रहे प्यार से बहुत इमोशनल हूं. उनकी रैल‍ियों में भीड़ देखकर बहुत खुशी होती है. मुझे मालूम है लोग हमें बहुत प्यार करते हैं, लेकिन सनी के लिए लोगों का हुजूम देखकर द‍िल भर आता है.”

 

बता दें कि 1991 में बलराम जाखड़ ने सीकर (राजस्थान) से चुनाव लड़ा था. उस वक्त उनके चुनाव प्रचार के लिए धर्मेंद्र भी सीकर आए थे.

Related Articles

Back to top button