Home » ‘तांडव विवाद’ से बिगड़ी शर्मिला टैगोर की तबीयत, अब बिना मां से पूछे सैफ नहीं करेंगे नया प्रोजेक्ट

‘तांडव विवाद’ से बिगड़ी शर्मिला टैगोर की तबीयत, अब बिना मां से पूछे सैफ नहीं करेंगे नया प्रोजेक्ट

by Deepak Dobhal

वेब सीरीज ‘तांडव’ को लेकर उपजा विवाद फिलहाल थमने का नाम नहीं ले रहा। इसी वजह से ओटीटी प्लेटफॉर्म प्राइम वीडियो और इसकी रचनात्मक प्रमुख अपर्णा पुरोहित समेत इस वेब सीरीज के लेखक गौरव सोलंकी, निर्देशक अली अब्बास जफर, निर्माता हिमांशु मेहरा और कलाकार मोहम्मद जीशान अय्यूब दिक्कतों में हैं। मुंबई के सीनियर एडवोकेट और प्राइम वीडियो के कानूनी सलाहकार मुकुल रोहतगी ने पहली बार इस मसले पर सार्वजनिक टिप्पणी की है, उधर इस पूरे विवाद में अपने बेटे सैफ अली खान को फंसते देख वरिष्ठ अभिनेत्री शर्मिला टैगोर की तबीयत खराब हो गई है।

 

एक इंटरव्यू के दौरान मुकुल रोहतगी ने कहा है कि वेब सीरीज ‘तांडव’ का विरोध होने पर जब इसके निर्माताओं ने विवादित सामग्री को निकाल कर बाहर कर दिया है तो अब इस वेब सीरीज पर मुकदमा होने का कोई औचित्य ही नहीं बनता। उन्होंने कहा है कि जो लोग अब इस वेब सीरीज पर केस कर रहे हैं, वह सिर्फ सस्ती लोकप्रियता पाना चाहते हैं। वेब सीरीज के बारे में मुकुल रोहतगी ने कहा, ‘लोग राजनीति पर तंज कसने के लिए आजाद हैं। वह कर सकते हैं। अगर कोई ऐसी चीजों को नहीं देखना चाहता तो न देखे। कोई उन्हें इस वेब सीरीज को देखने के लिए बाध्य थोड़े ही करता है।’

 

मुकुल रोहतगी ने साफ शब्दों में कहा है कि वेब सीरीज ‘तांडव’ पर हो रहे मुकदमे अब लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं, बल्कि सस्ती पब्लिसिटी पाने का जरिया बन गए हैं। ये केस अब बिल्कुल जायज नहीं हैं। ऐसा पहले भी हो चुका है। मुकुल ने कहा कि लोगों ने एम एफ हुसैन की पेंटिंग पर भी केस किया था। अब जब आपत्तिजनक दृश्यों को वेब सीरीज से निकाल दिया गया है तो अब मुकदमा करने की कोशिश के पीछे एक ही भावना हो सकती है कि लोगों को अब इसके जरिए पब्लिसिटी चाहिए।

उधऱ, वेब सीरीज ‘तांडव’ से उपजे विवादों से इसमें काम करने वाले कलाकारों और उनके परिवारीजनों में तनाव भी बढ़ रहा है। इस वेब सीरीज में अभिनेता सैफ अली खान ने मुख्य भूमिका निभाई है और जब से इस सीरीज पर मुकदमा शुरू हुआ है तब से उनकी मां वरिष्ठ अभिनेत्री शर्मिला टैगोर की तबीयत खराब रहने लगी है। शर्मिला अक्सर सैफ को ऐसा काम और बयान बाजी न करने की सलाह देती हैं जिससे लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचे।

You may also like