कैलाश सत्यार्थी ने कहा- गोडसे ने गांधी के शरीर की हत्या की लेकिन प्रज्ञा ठाकुर ने तो उनकी आत्मा की हत्या कर दी

254

नाथूराम गोडसे पर बीजेपी नेता साध्वी प्रज्ञा ठाकुर  के दिए बयान के बाद यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है. अब इस मामले में नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी का बयान सामने आया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘गोडसे ने गांधी के शरीर की हत्या की थी, लेकिन प्रज्ञा जैसे लोग उनकी आत्मा की हत्या के साथ, अहिंसा, शांति, सहिष्णुता और भारत की आत्मा की हत्या कर रहे हैं. गांधी हर सत्ता और राजनीति से ऊपर हैं. भाजपा नेतृत्व छोटे से फायदे का मोह छोड़ कर उन्हें तत्काल पार्टी से निकाल कर राजधर्म निभाए.

 

गौरतलब है कि भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया था. हालांकि कुछ घंटे बाद ही साध्वी ने अपना बयान वापस ले लिया और माफी भी मांग ली लेकिन उनकी माफी के बाद भी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है.

बता दें कि देवास संसदीय सीट पर पार्टी उम्मीदवार महेन्द्र सोलंकी के समर्थन में रोडशो कर रही प्रज्ञा ठाकुर ने एक सवाल के जवाब में कहा था, ‘नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे. गोडसे को आतंकी बोलने वाले खुद के गिरेबान में झांककर देखें. अबकी बार चुनाव में ऐसा बोलने वालों को जवाब दे दिया जाएगा.’ इसके बाद से ही प्रज्ञा ठाकुर लगातार सोशल मीडिया पर आलोचना का सामना कर रही हैं.

 

साध्वी के बयान को लेकर पूरे देश में बवाल में मच गया था. पार्टी ने आनन-फानन में बयान जारी कर कहा था कि वह प्रज्ञा के बयान से सहमत नहीं है. बीजेपी प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्‍हा राव ने अपने बयान में कहा था कि भाजपा उनके बयान से सहमत नहीं है और इसकी निंदा करती है और पार्टी उनसे स्‍पष्‍टीकरण मांगेगी. गुरुवार देर रात साध्वी ने अपने बयान पर माफी मांगते हुए कहा था ‘अपने संगठन बीजेपी में निष्ठा रखती हूं. उसकी कार्यकर्ता हूं और पार्टी की लाइन ही मेरी लाइन है.’